गेहूं की फसल में पीला रतुआ से कैसे बचें?

written By caneup.in

Image Credit: Google

Scribbled Underline

Image Credit: Google

पीला रतुआ गेहूं के शाकनाशी रोग है।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

जो गेहूं के शाकनाशी से होता है, जिससे गेहूं की फसल प्रभावित होती है।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

फसल के मौसम में उच्च आर्द्रता और वर्षा पीले रतुआ संक्रमण के लिए अनुकूल परिस्थितियाँ पैदा करती हैं।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

यदि इस रोग का संक्रमण पौधे के विकास की प्रारंभिक अवस्था में हो जाए तो इससे अधिक हानि हो सकती है।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

यदि आप गेहूं की खेती में पीले, भूरे और काले रतुआ से अपना बचाव करना चाहते हैं,

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

किसानों को मैंकोजेब (एम. 45) नामक दवा 800 ग्राम प्रति एकड़ की दर से 200 लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

यदि आवश्यक हो तो गेहूं शाकनाशी का दूसरा छिड़काव 10 से 15 दिन के अंतराल पर करें।

Scribbled Underline