उत्तर प्रदेश में गन्ने का रेट कौन तय करता है?

written By caneup.in

Image Credit: Google

Scribbled Underline

Image Credit: Google

गन्ना उत्पादकों द्वारा गन्ने की खेती की जाती है और फिर वे इसे किश्तों में बेचते हैं।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

गन्ने का शोधन राज्य सरकार द्वारा नामित मिलों में किया जाता है।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

इन मिलों का उपयोग फसलों के आयात और निर्यात के लिए किया जाता है।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

मिलों को सरकार द्वारा रिजर्व में रखा जाता है ताकि उनके अधीन गन्ने की बिक्री से होने वाली आय को राजस्व के रूप में इस्तेमाल किया जा सके।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

जब गन्ना मिलों में जाता है तो उसकी गुणवत्ता की जांच की जाती है।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

इसके बाद गन्ने की कीमतें तय की जाती हैं जो उत्पादकों द्वारा मांगी जाती हैं।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर अधिसूचना के माध्यम से गन्ने की कीमतें जारी की जाती हैं।

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

गन्ने के दाम से जुड़ी समस्याओं या अन्य मुद्दों के बारे में उत्पादकों द्वारा शिकायत की जाने पर निजी गट द्वारा निपटाया जाता है

Scribbled Underline
Scribbled Underline

Image Credit: Google

अंततः, गन्ने के दामों के निर्धारण के लिए राज्य सरकार के नियंत्रक द्वारा निर्धारित नियम और अनुशासन का पालन किया जाता है।

Scribbled Underline